Assam   Tea

Direct From Assam Since 2015

We are part of
ORIGINALI TEA     P LTD

CIN U51900AS2020PTC020418, GSTN 18AADCO2473K1Z6 and FSSAI 10021071000052


Home

Here, we have published articles related to tea and tea business, written by experts and by everyday tea users. This articles will give you an indepth insights on tea. These will help you take right decissions when you buy tea for your business or for your home use.


Previous     1   2   3   4  
सीटीसी अथबा काले चाय का श्रेणी

ई नए चाय व्यवसायी अक्सर प्राइमरी, सकेंडरी या आरपी चाय के बारे में भ्रमित हो जाते हैं। आसानि से समझने के लिए, हमने प्राइमरी, सेकेंडरी और आर पी चाय की व्याख्या करने का निर्णय लिया है। जब नए हरे पत्ते को संसाधित और वर्गीकृत किया जाता है, प्राइमरी चाय बन जाती है। प्राइमरी चाय हर चाय फेक्टरी की सर्वोत्तम चाय होता है। प्राइमरी चाय देखने मे उज्जल काला आर पीने में भी कड़क ओर सुगंधित होता है। प्राइमरी का कोवलिटी ओर दाम भी सबके ऊपर रहता है। अगर हरी पत्ती कोमल ओर छोटा आकार की है तो उससे ज्यादा परिमाण या पूरा ही प्राइमरी चाय बनता है। लेकिन अगर उसमे बड़ा ओर कर्कश हरि पत्ति है तो सॉर्टिंग मशीन उसे प्राइमरी चाय से अलग कर देते है। उसी अलग चाय को सेकेंडरी कहते है। सेकेंडरी कम काला या भूरा रंग के होते है। ओ प्राईमरी की जैसा उज्जल नही होते। उसमे फाइबर भी थोड़ा ज्यादा होता हैं। उसका स्वाद भी कम कडक ओर कम फ्लेवर का होते है। प्राइमरी और सेकेंडरी के कुछ परिमाण चायमें अधिक फाइबर होता है या बड़ा बड़ा आकार का होता है। इस चाय को फिरसे मशीन में चलाना पड़ता है। उसमे कुछ नया हरि पट्टी भी मिलाया जाता है। जैसे इसको फ्रेश चाय के जैसा लगे। इसीको आर पी या रेप्रोसेसड चाय बलते है। सीटीसी मशीनों में यह फिर से काटा जाता है जैसे कि नई चाय बनाई जा रही है। जैसे ये रद्दी से बनाया जाता है ओर दो बार मसीन में चलाया जाता है, इसी लिए इसका कोवलिटी सबसे नीचे ओर दाम सबसे सस्था होता है। सॉर्टिंग मसीन से सब चाय को अलग अलग साइज में बिभाग या ग्रेडिंग किया जाता है। फिर साइज के हिसाब से उसका नाम दिया जाता है। अगले बार इस बिभाग का अलग अलग चाय का नाम का चर्चा करेंगे। आप को अच्छा लगा तो शेयर करिए, जैसे के आपके दोस्तों को काम आए।
Sambhunath Singh

चाय व्यापार में कितना निवेश करें ।

वैज्ञानिक रूप से चाय व्यापार में कितना निवेश करें । चाय व्यवसाय अन्य व्यवसायों की तुलना में आसान है। आप इसे छोटे या बड़े पूंजी के साथ शुरू कर सकते हैं। एक नया चाय व्यापारी को यह तय करना होगा कि उसे चाय के व्यापार को शुरू करने के लिए कितना चाय चाहिए ? उसे कितना निवेश करना है ? अपने हाथ में कितना चाय रखाना चाहिए ? यह हिसाब बहुत सरल है । एक कप चाय बनाने के लिए आपको ढाई ग्राम असम सीटीसी चाय की आवश्यकता होती है। एक दिन में एक भारतीय कम से कम 4 कप चाय लेता है। इसका अर्थ है कि दस ग्राम चायका ग्रैन्यूलस या पाउडर है। यदि आपका शहर या आपके लक्षित बाजार में दस लाख आबादी हो, तो सिर्फ दस ग्राम गुणा दस लाख समान एक हज़ार किलोग्राम बढ़ो। यह दैनिक उपभोग है। मासिक नहीं, याद रखें। दूसरी चीज याद रखना कि आप अपने शहर में चाय व्यवसाय शुरू नहीं कर रहे हैं। पहले से ही बड़े और छोटे विक्रेता चाय बेच रहे हैं और लाभ कमा रहे हैं। अब आप तय करें, आप कितना दुकान और मकान में बिक्री करेंगे। मान लीजिए आप पहले महीने में दो प्रतिशत बाजार को कवर करेंगे, दूसरे महीने में चार प्रतिशत, तीसरे महीने में पंज प्रतिशत और इसी तरह इसे बढ़ाएं। इसका मतलब है, आपके पहले महीने में, आप दो सौ किलो दैनिक और छह हज़ार किलो मासिक बेचेंगे। हमने रविवार को भी शामिल किया है। क्योंकि हम सभी रविवार को चाय पीते हैं, यहां तक ​​कि अधिक कप चाय पीते हैं । अब अपने हाथ में अपने स्टॉक के बारे में सोचो। न्यूनतम मात्रा कितना रखने की आवश्यकता है। चाय ब्रांड कुछ हद तक सिगरेट ब्रांड की तरह हैं । लेकिन सिगरेट जैसी हानिकारक नहीं हैं। यदि आप विल्स पीते हैं। तो आप प्रत्येक समय विल्स खरीद लेंगे। जब तक यह आपके इलाके में उपलब्ध है। जब यह आपके क्षेत्र में उपलब्ध नहीं है। पसंदीदा ज़हर के लिए शायद एक या दो दिन हो सकता है आप अन्य क्षेत्र में खोज करने के लिए जाएंगे। लेकिन यदि यह सुविधा आसानी से उपलब्ध नहीं है, तो आप जल्द ही एक और आसानी से उपलब्ध ब्रांड चुन सकते हैं। आपके चाय खरीदार लगभग इसी तरह व्यवहार करते हैं । अगर वे आपकी चाय पसंद करते हैं, तो वे आसानी से उपलब्ध होने तक इसे ले जाएंगे। जिस दिन यह आसानी से उपलब्ध नहीं है। वे आपकी चाय आने के लिए इंतजार नहीं करेगा। लेकिन अगले आसानी से उपलब्ध ब्रांड खरीदी लेंगे। इसलिए दुकान की स्टॉक खत्म होने से पहले दुकानों को फिर से भरने के लिए आपके पास पर्याप्त स्टॉक होना चाहिए। तीसरा निर्णय पर आपको यह विचार करने की आवश्यकता है कि आपके आपूर्तिकर्ताओं से चाय प्राप्त करने के लिए कितना समय लगता है। यदि यह दो सप्ताह है, तो आपको कम से कम 2 सप्ताह का स्टॉक होना चाहिए या ज्यादा। इन निवेशों के अलावा, आपको अपने कार्यालय के व्यय और आपके बिक्री कर्मियों के खर्चों के बारे में फैसला करना होगा। ये विभिन्न जगह पर बहुत व्यापक रूप से भिन्न होते हैं। यह आप तय कर सकते हैं ।
Swarup Singh

चाय व्यवसाय कैसे शुरू करें *****?

चाय का व्यवसाय आसान और लोकप्रिय है और आप इसे किसी भी स्थान पर शुरू कर सकते हैं चाय भारत भर में लोकप्रिय है, आप मुख्य बाजार या लेन में चाय की बिक्री शुरू कर सकते हैं। आपको हर जगह ग्राहक मिलेगा चाय व्यापार शुरू करने के लिए | आप अकेले सुरु कर सकते हैं ईया साझेदार लेके कर सकते है। साझेदारी व्यापार के लिए, आपको व्यापार लाइसेंस प्राप्त करने या बैंक खाते बनाने के लिए साझेदारी विलेख प्रस्तुत करना आवश्यक है। अकेले सुरु करने के लिए विलेख जरूरत नही। लेकिन आपको व्यापार लाइसेंस आवेदन पत्र के साथ पता प्रमाण, आईडी प्रमाण, फोटो इत्यादि को और एक छोटा शुल्क जमा करने की आवश्यकता होगी। आम तौर पर, नगर प्राधिकरण, 7 दिनों के भीतर खुशी से व्यापार लाइसेंस जारी करेगा। इसके बाद, आपको GST registration बनाने की आवश्यकता है | राज्य जीएसटी -- अगर आप अपने राज्य में बेचना चाहते हैं, और आपको चालू खाते की आवश्यकता है। राज्य जीएसटी पंजीकरण आपके राज्य के भीतर व्यापार करने के लिए है और केंद्रीय जीएसटी पंजीकरण पूरे भारत में व्यापार करने के लिए है | चूंकि चाय एक बहुत लोकप्रिय पेय है और आपूर्तिकर्ताओं / उत्पादक असम, Dooars और भारत के केरल में स्थित हैं, मैं सेंट्रल जीएसटी के लिए रजिस्टर का सुझाव देता हूं। कौन जानेै, हो सकता है कि आप कांगड़ा घाटी से चाय खरीद के असम में किसी दिन बेचेंगे। जीएसटी पंजीकरण आमतौर पर 15 से 21 दिन लगते हैं। आपके अनुमानित कारोबार के आधार पर वे शुल्क का भी शुल्क लेते हैं अब सरकार खुश हो जाती है, जब आप एक व्यवसाय शुरू करते हैं। बैंक खाते खोलने में 2 दिन का समय लग जाएगा। तो व्यापार लाइसेंस के लिए आवेदन करने के 1 महीने के भीतर, आप अपना चाय व्यवसाय शुरू करने के लिए तैयार हैं। अब आगे की योजना और पूछताछ करने के लिए इस 1 महीने का उपयोग करें। योजना 1- आप किस प्रकार की चाय बेचना चाहते हैं ? --- सीटीसी, orthodox, ग्रीन टी, हस्तनिर्मित चाय या सभी उत्पादों और मसाला चाय, बांस चाय, हर्बल चाय जैसे मिश्रण भी रखें ? योजना 2 -कहांसे आप अपनी चाय खरीदने जा रहे हैं? --- हमेशा की तरह, source से chai खरीदना बेहतर है। तो एक सप्लायर का पता लगाएं जो कि www.assamteasellers.in जैसे चाय का उत्पादन करता है। योजना 3 - चाय की कीमत 70 रुपये से लेकर 7000 रुपये से अधिक हो सकती है - आपकी वरीयता क्या है? यदि आप एक बड़े शहर में हैं तो आप सभी गुणों और सभी मूल्य सीमाओं को chai बेचने का प्रयास कर सकते हैं। लेकिन एक छोटे से टाउन या शहर में, उच्च दाम चाय से कम ओर मध्यम कोवलिटी अधिक लोकप्रिय हो जाएगा। योजना 4- khola चाय या पैकेट चाय? --- आप थोक में चाय खरीद सकते हैं और 500 ग्राम, 1 किलो का पॉलीपैक पैक कर सकते हैं और इसे बेच सकते हैं। अगर यह किसी भी लेबल के बिना है, तब कोई अतिरिक्त कर को आकर्षित नहीं करेगा। यह अपनी सुगंध, शेल्फ लाइफ को बनाए रखेगी और बढ़ाएगी और अंत में एक बार आपकी chai ki दुकान लोकप्रिय हो जाएगी, आप अपना खुद का ब्रांड पेश करेंगे। जब आप इन सभी निर्णयों को लेते हैं, तो आप चाय व्यवसाय शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। हम आपको, आश्वस्त करते हैं, 1 साल बाद आप चाय व्यवसाय शुरू करने के फैसले को पसंद करेंगे। चीयर्स !!
Raghubendra Chohan

Tea Tasting, CTC Tea

Tea tasting is a very important part for starting and running a tea business-- successfully. Apparently, its not an easy task. A tea taster can differentiate over 600 different taste of tea. Full fledged academic courses are there to learn tea tasting. It varies from 45 days to 1 year.
It will definitely be an advantage, if you are a qualified tea taster. You will be able to understand tea quality and its reasonable price immediately.
But most probably, tea tasting course is not available in your city, or you may not have time to pursue the course.
Do not break down, every person is a tea taster. It is always better to do a course, but if you can not, just follow these guidelines to taste tea.
If yo want to follow tea tasting technique, please arrange these small equipments--10 Tea testers mugs 100 ML size with lead, 10 Tea Bowls, 10 small tea box, 1 Tea Spoon, 2000 watt Electric cattle 1 or 2 litre size, A sand watch or electronic stop watch, a electronic scale 20 gram capacity. First of all
Put water in electric heater and boil the water.
measure each type of tea separately 2 gram each from the tea box with the electronic scale. Put the measured tea in each cup, keep tea box aligned parrallel to the cup, so that you can recognise it.
Put 2 gram tea to the tester cup then fill boiled water in the cup upto the brink, put the lead on and wait for 5 minutes for tea steeping using electronic watch.
Now pour the content of cups to tea bowls and align it to the cups and tea box. But Do not pour the tea leaves on the bowls. Put the leaves on lid of the cup, so that you can check it visually.
Now its time for actual tasting.
Take the first bowl in your hand, sip a good mouthful of tea, start rolling on your tounge. Let your taste bud feel the taste. If you are not sure in the first sip, threw it out in a basket and take another sip.
When you are satisfied, that its taste is clear to you, check the cup for infusion, its colour, smell.
Write it down in a piece of paper------ 1. What is the colour of tea and infused leaf ? Is it bright or dull colour ? Or is there any greenish taint at side part of cup ?
2. How does the tea taste ?
3. How does it smell ?
4. Does to smell of any non tea item, even a faint smell ?
Some important things you must remember here---- A. Price of tea must not influence your judgement.
B. You are not a professional Tea Taster, You are tasting tea for selecting tea for your business. So find out the taste, which are prefered by your buyers. You may or may not require very high quality tea.
You may improvise the equipments with your home cups, water heater, wrist watch etc but 2 gram tea and 5 minutes steeping time must be maintained. You may also mix milk to find out the look of final product.
Sangram Singh
Previous     1   2   3   4  


All articles are registered, Copy Write protected.

Andhra Tea,   Bihar Tea,  Chhattisgarh Tea,  Delhi Tea,  Gujarat Tea, Goa Tea, Haryana Tea, Himachal Pradesh Tea, Jammu Kashmir Tea, Jharkhand Tea, Karnataka Tea, Kerala Tea, Maharashtra Tea, Madhya Pradesh Tea, Odisha Tea, Punjab Tea, Rajasthan Tea, Sikkim Tea, Tamil Tea, Uttarakhand Tea, Uttar Pradesh Tea, West Bengal Tea, आसाम चाय,  আসাম চা, ગુજરાતી    SM